अस्थमा के उपाय, लक्षण, कारण

अस्थमा के उपाय, लक्षण, कारण:-

Treatment of Asthma

सूक्ष्म श्वास नलियों में कई बार रोग उत्पन्न हो जाता है जिसके कारण हमें सांस लेने में परेशानी होती है उसे अस्थमा कहते है। कभी कभी इस रोग में व्यक्ति को खांसी की समस्या भी हो सकती है। अगर आपको लंबे समय तक खांसी की समस्या परेशान करते रहे तो समझ लीजिए आपको अस्थमा की समस्या हो गई है। आज हम इस आर्टिकल में अस्थमा के उपाय के बारे में जानने वाले है।

अस्थमा के लक्षण:-

  • जब रोगी को दौरा पड़ता है तो उसे सूखी या ऐठनदार खांसी आने लगती है।
  • जब रॉकी को खांसी आती है तो उसका कफ सख्त बदबूदार और डोरी दार निकलता है।
  • अस्थमा में रोगी को सांस लेने में परेशानी होती है।
  • यह रोग स्त्री और पुरुष दोनों को हो सकता है।
  • अस्थमा में रोगी को रात के 2:00 बजने के बाद दोरे अधिक आने लगते है।

अस्थमा के कारण:-

  • औषधियों का ज्यादा प्रयोग करने से कफ सूख जाता है जिसके कारण अस्थमा हो जाता है।
  • खानपान के गलत तरीके से भी अस्थमा हो जाता है।
  •  मानसिक तनाव, क्रोध तथा अधिक डर के कारण भी अस्थमा रोग हो जाता है।
  • खून में किसी भी प्रकार का दोष हो जाने से अस्थमा का असर दिखने लगता है।
  • नशीले पदार्थों का अधिक सेवन करने से भी अस्थमा रोग हो सकता है।
  • खांसी, जुखाम तथा नजला रोग अगर अधिक समय तक रह जाए तो भी अस्थमा हो सकता है।
  • भूख से ज्यादा भोजन खाने से भी अस्थमा हो सकता है।
  • श्वास नलिका में धूल तथा ठंड लग जाने से भी अस्थमा हो सकता है।
  • मल मूत्र को बार-बार रोकने से भी अस्थमा हो सकता है।
  • अस्थमा एलर्जी अनुवांशिक भी होता है।
Read Also :  Do Not Eat These Foods After Marriage : शादी के बाद यह 7 चीजें नहीं खानी चाहिए

अस्थमा का उपचार:-

  • अस्थमा के मरीज को हमेशा गर्म बिस्तर पर ही सोना चाहिए।
  • अस्थमा के मरीज को धूम्रपान नहीं करना चाहिए ।
  • अस्थमा के मरीज को भोजन में मिर्च – मसालों का प्रयोग भी नहीं करना चाहिए ।
  • अस्थमा के मरीज को धूल तथा धुए से भरे वातावरण से दूर रहना चाहिए ।
  • अस्थमा के मरीज को मानसिक परेशानी, तनाव, क्रोध तथा लड़ाई झगड़े से भी दूर रहना चाहिए ।
  • अस्थमा के मरीज को शराब, तंबाकू तथा अन्य नशीले पदार्थों से भी दूर रहना चाहिए।

अस्थमा के घरेलू उपचार:-

  1. लहसुन अस्थमा के इलाज में काफी मददगार साबित होता है इसलिए आपको 30 मिली दूध में पांच लहसुन की कलियां उबालकर इस मिश्रण का हर रोज सेवन करना है इससे आपको अस्थमा की बीमारी से छुटकारा मिलेगा।
  2. अदरक की गरम – गरम चाय में लहसुन की दो पिसी कलियां डालकर पीने से अस्थमा में फायदा होता है। इस चाय को दिन में दो बार पीना चाहिए।
  3. 4 से 5 लोग और 125 मिली पानी इन दोनों को मिलाकर 5 मिनट तक उबालें और बाद में इस मिश्रण को छानकर इसमें एक चम्मच शहद मिलाइए और फिर इसको गरम-गरम पी लीजिए इस चाय का आपको दिन में दो या तीन बार सेवन करना है।
  4. 180 मिमी पानी में मुट्ठी भर सहजन की पत्तियां मिला लीजिए और करीब 5 मिनट तक उबालते रहिए बाद में इस मिश्रण को ठंडा होने दीजिए चुटकी भर नमक और नींबू का रस भी मिला लीजिए अब आपको नियमित रूप से इसका सेवन करना है जिससे आपको फायदा होगा।
  5. मेथी का काढ़ा अस्थमा के उपचार में फायदेमंद होता है। इसके लिए आपको एक चम्मच मेथी दाना और पानी उबाल लेना है इसका आप दिन में दो बार सेवन कीजिए आपको निश्चित ही लाभ होगा।
  6. आपको एक साबूत केला लेना है उसके बाद इस केले को लंबाई में काट लीजिए और इसके बाद इस केले में बारिक पिसी हुई काली मिर्च भर लीजिए अब इस केले को बिना छीले केले के पत्तों में लपेट कर दो या तीन घंटों के लिए रख दीजिये बाद में केले को पत्ते सहित इस तरह भूने के पत्ते जल जाए और कैला बच जाए बाद में जब केला ठंडा हो जाए तब इसके पत्ते निकालकर आप खा लीजिए आपको अस्थमा में निश्चित रूप से लाभ मिलेगा।

Leave a Reply