बवासीर का इलाज, कारण – piles treatment in hindi

piles treatment in hindi

 

पाइल्स एक बहुत ही खतरनाक बीमारी होती है इस बीमारी के अंदर रोगी की एनस के अंदर या बाहर मस्से बन जाते हैं। कई बार इन मस्सों से खून भी निकलने लगता है और साथ में बहुत तेज दर्द भी होता है कभी-कभी तो जोर लगाने पर यह मस्से बाहर भी निकल जाते हैं। तो आप यह सोच रहे होंगे कि है पाइल्स का आयुर्वेद में इलाज है क्या ? तो हां, पाइल्स का आयुर्वेद में इलाज है। इसके लिए आपको इस आर्टिकल को पूरा पढ़ना है। आज मैं आपको यहां पर कुछ ऐसे आयुर्वेदिक उपचार बताने वाला हूं जिन्हें अपनाकर आप बवासीर को जड़ से खत्म कर देंगे तो चलिए हम जानते हैं। बवासीर का इलाज, कारण – piles treatment in hindi.

 

बवासीर का कारण :-

1. कब्ज पाइल्स का महत्वपूर्ण कारण बनता है अगर हमें कब्ज रहती हैं तो हमें बवासीर होने का खतरा बढ़ जाता है

2. यह समस्या ज्यादा बैठे रहने से भी हो जाते हैं आप दिनभर ऑफिस के काम से या फिर घर पर बैठे ही रहते हैं तो आपको बवासीर हो जाता है

3. गर्भावस्था के दौरान बवासीर होने का खतरा काफी ज्यादा बढ़ जाता है क्योंकि गर्भावस्था के दौरान भोजन ठीक से नहीं पच पाता है इसलिए महिलाओं को बवासीर हो सकता है

4.  सिगरेट, शराब, जंक फूड के कारण भी बवासीर होने का खतरा अधिक हो जाता है क्योंकि यह पदार्थ हमारी पाचन शक्ति को खराब करते हैं जिससे हमें बवासीर का रोग हो जाता है

Read Also :  नीम और दही का फेस पैक - Neem and curd face pack

5.  वंशानुगत के कारण भी यह रोग काफी ज्यादा होने का खतरा रहता है अगर आपके परिवार में पहले से किसी को बवासीर रोग है तो आपको भी यह हो सकता है

 

बवासीर का इलाज – piles treatment in hindi

1. बवासीर का सबसे कारगर नुस्खा है, नीम की कुछ पतियों को घी में भूनकर उसमें थोड़ा कपूर मिला लीजिए अब इस मिश्रण को बवासीर के ऊपर लगाइए जल्द ही आपको बवासीर से छुटकारा मिल जाएगा।

2. आधा चम्मच हरड़ के पाउडर को रोज गुनगुने पानी के साथ पीने से बवासीर से जल्द ही आराम मिल जाता है।

3. बवासीर को जल्दी ठीक करने के लिए आपको आक या मदार के दूध में हल्दी पाउडर मिलाकर इसका नियमित रूप से सेवन करने पर आपको बवासीर से राहत मिलती है।

4. आधा चम्मच काली मिर्च पाउडर और आधा चम्मच काला जीरा पाउडर और थोड़ा सा शहद मिलाकर इस मिश्रण का सेवन करना है यह बवासीर में रामबाण औषधि का काम करता है।

5. लौकी के पत्ते भी बवासीर में काफी कारगर साबित होते हैं आपको लौकी के पत्तों को पीसकर इसका पेस्ट बनाकर पाइल्स वाली जगह पर लगाने से जल्द ही बवासीर से राहत मिल जाती है।

6. तुलसी के पत्तों में पानी मिलाकर पीस कर उसका पेस्ट बना लीजिए बाद में इस पेस्ट को अपने पाइल्स वाली जगह पर लगाइए जल्दी आराम मिलेगा।

7. एक उपाय यह भी है कि आंवले के चूर्ण को पानी में मिलाकर मिट्टी के बर्तन में रात भर के लिए छोड़ दीजिए सुबह उठकर इस पानी में चिरचिटा की जड़ और मिश्री मिलाकर इसका सेवन करने से भी बवासीर से छुटकारा मिलता है।

Read Also :  Benefits of Asafetic Water - हींग के पानी के फायदे

8. करेले के बीजों को निकाल कर उसका पाउडर बना लीजिए इस पाउडर में शहद और सिरका मिलाकर मस्सों वाली जगह पर लगाने से मस्से ठीक हो जाते हैं।

9. चाय की पत्तियों को पीसकर उसका पेस्ट बना लीजिए इस पेस्ट को बवासीर वाली जगह पर लगाने से आपको कुछ ही दिनों में बवासीर से छुटकारा मिल जाएगा।

10. अब सबसे पहले आपको एक मुट्ठी काले तिल लेने हैं एक मुट्ठी तिल को रोज दही के साथ खाने से आपको बवासीर से जल्द ही राहत मिल जाएगी।

11. मेहंदी के पत्तों को पानी के साथ मिलाकर इसका अच्छे से पेस्ट तैयार कर ले इस पेस्ट को अपने बवासीर वाली जगह पर लगाने से बवासीर में आराम मिलता है इसका इस्तेमाल आपको नियमित रूप से करना है।

12. सबसे पहले एक कच्चा प्याज ले बाद में इस प्याज को धीमी आंच पर भून लें बाद में इस प्याज का एक पेस्ट तैयार कर ले इस पेस्ट को बवासीर वाली जगह पर लगाने से आपको थोड़े ही दिनों में बवासीर से निजात मिल जाएगी। तो यह थे आज के हमारे बवासीर का इलाज, कारण – piles treatment in hindi.

2 thoughts on “बवासीर का इलाज, कारण – piles treatment in hindi

Leave a Reply